shayari और ishq dastaan E mohabat

0
339
chahat love shayari

shayari और ishq dastaan E mohabat

मैंने वो खोया जो मेरा कभी नहीं था ,

और उसने वो खोया जो उसका ,

सिर्फ उसका ही था । 

दोस्तो ,उजड जाते सर से पाव तक वो लोग ,

जो किसी बेवफा से बेपनाह इश्क़ कर लेते है। 

बहुत से रिश्ते इसलिए टूट जाते है ,

क्योकि एक बता नहीं पाता ,

दूसरा समझ नहीं पाता…अजीब इश्क़ की दास्तान है॥

चाहकर भी भुला नहीं पाता। 

shayari और ishq dastaan E mohabat
chahat shayari