Gulzar

0
169
Gulzar Shayari collection

Gulzar Shayari collection hindi mein

Gulzar shayari collection for Romantic Love couple heart Touching Hindi Shayari By Gulzar Sahab.

Gulzar Sahab Best Heart Touching Shayari Collection

Shaam Se Aankh Mein Namee Si Hai,
Aaj Phir Aap Ki Kami Si Hai.

शाम से आँख में नमी सी है,
आज फिर आप की कमी सी है।

Khushboo Jaise Log

Khushboo Jaise Log Mile Afsane Mein,
Ek Purana Khat Khola Anjane Mein.

ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में,
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में।

Koi Ehsaas-Gulzar Shayari

Yoon Bhi Ik Baar To Hota Ki Samundar Bahta,
Koi Ehsaas To Dariya Ki Ana Ka Hota.

यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता,
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता।

Aapke Saath Aapke Baad

Aap Ke Baad Har Ghadi Hamne,
Aap Ke Saath Hi Guzaaree Hai.

आप के बाद हर घड़ी हमने,
आप के साथ ही गुज़ारी है।

Din Kuch Aise Guzarta Hai Koi

Din Kuch Aise Guzarta Hai Koi,
Jaise Ehasaan Utaarata Hai Koi.

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई,
जैसे एहसान उतारता है कोई।

Haat Chhute Bhi To Rishte Waqt Ki

Haath Chhute Bhi To Rishte Nahi Chhoda Karte,
Waqt Ki Shaakh Se Lamhe Nahi Toda Karte.

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते,
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते।

Khuli Kitab shayari By Gulzar

Khuli Kitaab Ke Safhe UlatTe Rahate Hain,
Hawa Chale Na Chale Din PalatTe Rahte Hain.

खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं,
हवा चले न चले दिन पलटते रहते हैं।

Wo Umr kam Kar Raha Tha

Wo Umr Kam Kar Raha Tha Meri,
Main Saal Apne Badha Raha Tha.

वो उम्र कम कर रहा था मेरी,
मैं साल अपने बढ़ा रहा था।

Gulzar 2 Line Shayari

Kal Ka Har WaqiaTumhara Tha,
Aaj Ki DastaanHamari Hai.

कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था,
आज की दास्ताँ हमारी है।

Uthaye Phirte Hain

Uthaye Phirate The Ehsaan Jism Ka Jaan Par,
Chale Jahaan Se To Ye Pairahan Utaar Chale.

उठाए फिरते थे एहसान जिस्म का जाँ पर,
चले जहाँ से तो ये पैरहन उतार चले।

Suno …Zara-Gulzar Best Shayari

Suno…Zara Raasta To Batana,
Mohabbat Ke Safar Se, Bapsi Hai Meri.

सुनो…ज़रा रास्ता तो बताना,
मोहब्बत के सफ़र से वापसी है मेरी।

Koi Na Koi Hindi Shayari

Koi Na Koi Rahbar Rasta Kaat Gaya,
Jab Bhi Apni Rah Chalne Ki Koshish Ki.

कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया,
जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की।

Kitni Lambi Khamoshi

Kitni Lambi Khamoshi Se Guzra Hoon,
Un Se Kitna Kuchh Kahne Ki Koshish Ki.

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ,
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की।

Aaj Har Khamoshi Ko

Aaj Har Khamoshi Ko Mita Dene Ka Man Hai,
Jo Bhi Chhupa Rakha Hai Man Mein Loota Dene Ka Man Hai.

आज हर ख़ामोशी को मिटा देने का मन है,
जो भी छिपा रखा है मन में लूटा देने का मन है।

Khil Rahe Hain

Aa Rahi Hai Jo Chaap Kadmon Ki,
Khil Rahe Hain Kaheen Kanval Shayad.

आ रही है जो चाप क़दमों की,
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद।

Dekh Kar Aaina

Dekh Kar Aaina Tasalli Hui,
Ham Ko Is Ghar Mein Janta Hai Koi.

देख कर आइना तसल्ली हुई,
हम को इस घर में जानता है कोई।

Read More Best….

Nida Fazli Shayari

Mir taqi Mir Shayari

Rahat Indori Shayari